Posts

What is Attitude या अभिवृत्ति क्या है, how it change our behaviour

Image
मनोवृत्ति या Attitude :::
 What is Attitude या अभिवृत्ति क्या है, how it change our behaviour




 मनोवृत्ति या अभिवृत्ति या  दृष्टिकोण या एटिट्यूड शब्द का प्रयोग हम दिन प्रतिदिन सुनते हैं, कि फला व्यक्ति का किसी मामले में कैसा दृष्टिकोण है , मनोवृत्ति किसी व्यक्ति की किसी घटना ,समूह, व्यक्ति, वस्तु के प्रति सकारात्मक या नकारात्मक सोंच को प्रकट करती है, इस सोंच के कारण उस समूह , व्यक्ति, वस्तु के प्रति वही व्यक्ति के व्यवहार में बदलाव लातें है ,जो उसके व्यवहार में साफ़ दिखाई देतें है , यदि किसी व्यक्ति का किसी संगठन के प्रति सकारात्मक view है तो वह  संगठन में अपनी ऊर्जा का महत्तम योगदान देता है, वहीं संगठन के प्रति नकारात्मक attitude होने पर वह संगठन के कार्यों में अरुचि रखेगा या संगठन छोड़ भी देगा।          मनोवृत्ति से  व्यक्ति एक खास दिशा में अपनी शक्ति को लगा देता है, जिसके कारण वह अन्य दिशाओं को छोड़कर एक निश्चित दिशा में व्यवहार करने लगता है।     इग्ली और चायकेन् के अनुसार--परिभाषा-- " Attitude एक मनोवैज्ञानिक झुकाव है जिससे किसी विशेष वस्तु के प्रति पक्ष या विपक्ष से मूल्यांकन द्व…

Rule under IPC section 323, 324, 325,326, 504,506, लड़ाई झगड़े में होने वाले क़ानूनी मदद

Image
लड़ाई झगड़े में  होने वाले कानूनी मदद
Rule under  IPC section 323, 324, 325,326, 504,506

      जब किसी दो पक्षों में किसी कारण से विवाद मारपीट हो जाती है तो पुलिस दोनों पक्षों की गिरफ्तारी crpc की धारा 151 के तहत कर लेगी , यदि पुलिस को किसी स्थान पर झगड़ा होने की आशंका लगती है या उसे ऐसी सूचना मिलती है कि झगड़ा होने की आशंका है तो पुलिस crpc की धारा 107/116  के तहत कार्यवाही   करेगी और  दोनों    पक्षों को  गिरफ़्तार  करेगी   और  गिरफ़्तारी  के अंदर आरोपी को  24 घण्टे के अंदर उन्हें मजिस्ट्रेट यानी SDM के सामने प्रस्तुत करेगी , 151/107/116 विषयक विवादों में SDM को ही जमानत की अधिकारिता है । क्योंकि उसको ये शक्ति  व्यवस्था बनाये  रखने की जम्मेदारी दी गई है, एक आरोपी के जमानत  लेने के लिए दो जमानती लगेंगे ,  मजिस्ट्रेट एक निश्चित धनराशि का बॉन्ड( बंध पत्र) भी भरवा सकता है ,इसके लिए किसी गाड़ी के RC या फ़िर   निजी कृषिभूमि  की खतौनी लगाई जा सकती है जो उस मूल्य के बराबर हो या अधिक कीमत की हो जितना बांड मूल्य निर्धारित है , इस तरह के मुक़दमे में पड़ने वाली हर तारीख़ में अभियुक्त को मजिस्ट्रेट  के सामने…

Why Wild animals attack increased in human area

Image
Why Wild animals attack increased in human area जंगली जन्तु खेतों में क्यों आ रहे हैं- हमने विकास की रफ़्तार पकड़ने के कारण हरे भरे जंगल काट डाले,और अपने रहने के लिए कंक्रीट के मकान बना डाले,इन पेंड़ो के कटते ही हमने अपने आवास बनाने के लिए जगह तो तलाश ली परन्तु इन पेंड़ो पर आवास बना कर रहने वाले जीवों गिलहरी ,पक्षी, बन्दर के आवास छीन लिए हम लोंगों ने, यदि कुछ जीव हमारे बस्ती में घुस रहे है, हमारे  स्कूल में घुस जा रहे है तो इसके जम्मेदार हम ही सब है?

जीव का सहचर्य- 
  पृथ्वी में उपस्थित   सारी  वस्तुओं चाहे वो जीव हो या निर्जीव आपस में  गहरा सम्बन्ध है,   जीव एक  दूसरे से जुड़े  हुए है , पृथ्वी की सभी जीव वनस्पतियां एक दूसरे के पूरक हैं, पृथ्वी में हर जीव का जीवन अपने आप में अद्वितिय(unique)है, प्रकृति के लिए यदि किसी एक जीव का जीवन संकट में पड़ता है तो दूसरे जीव का जीवन भी संकट में पड़ जाता है,उदाहरण के लिए प्रकृति में संतुलन के लिए पेंड़ पौधे,घास  होने चाहिए, इन पेंड़ पौधों को खाने के लिये हिरण आदि  शाकाहारी जीव भी होने चाहिए ,और इन शाकाहारी  जीवों पर आस्रित मांसाहारी जीव भी प्रकृति में उसी…

Major dhyanchand-

Image
मेजर ध्यान चन्द-हॉकी के जादूगरMajor dhyanchnd का जन्म 29 अगस्त 1905 को ब्रिटिश भारत में हुआ था  ,इनका पूरा नाम ध्यानचंद सिंह था, उनके भाई का नाम रूप सिंह था  वो भी हॉकी के कुशल खिलाडी थे , ध्यानचंद  के बाल्यकाल में खिलाड़ी के कोई लक्षण नहीं थे  उनकी   हाईट  5 फुट 7 इंच , परंतु युवावस्था में जब वो 17 वर्ष की अवस्था   के थे तब उन्हें सन् 1922 को  सेना  में ब्राम्हण रेजीमेंट में भर्ती  होने का अवसर मिला , कुछ समय बाद सेना में उनका    परिचय  मेजर तिवारी से हुआ जो हाँकी के खिलाड़ी थे ,उनके सम्पर्क में आने के बाद उन्होंने हाँकी खेल की बारीकियाँ सीखी , और ख़ुद को एक बेहतरीन  खिलाड़ी बनाने के लिए जुनूनी ढंग से खेल खेलते थे वो रात को चाँदनी रात में भी हाँकी खेल में अभ्यास करते रहते  थे ,सतत् अभ्यास से  उन्होंने सारी कमजोरियाँ दूर कर ली ,और वो प्रारम्भ में सेना के खेल की प्रतिस्पर्धा में भाग लेते थे 1922 से 1926 तक वो सेना के खेलों में ही हिस्सा लेते थे। उन्हें हॉकी में उम्दा प्रदर्शन से  ध्यानचंद को  लगातार प्रमोशन  मिलता रहा , 1927 में ध्यानचंद को प्रमोट करके लांस नायक बना दिया गया। और जब वो 1932…

Dental care , danto ko kide se kaise bachaye,root canal treatment

Image
(  Dental care  ) दांतों की देखभाल कैसे करें?

       मुंह  में  स्वास्थ्य  (ओरल हेल्थ)   की जरूरत  क्यों  ध्यान   रखना आवश्यक  है , ओरल हेल्थ के लिए  क्या जरूरी है ,  दांतो की खूबसूरती से व्यक्ति की खूबसूरती बढ़ जाती है , मुंह की दुर्गन्ध से व्यक्तित्व में कमी आती है, दांत में रोग हो जाने से  ही पेट  की कमियां  बीमारियां  भी शुरु हो जाती हैं? अपच की समस्या  , कान्सटीपेसन (कब्ज)  की  समस्याएं  दांतो से ही शुरू होती है जो दांत ख़राब होने से   सही ढंग से चबाकर नही खाने से होती है।

   दांतों में कीड़ा लगना क्या है?   दांतो में कीड़ा लगना एक बहुत बड़ी समस्या है , दांतों को कीड़े से कैसे बचाएं?  ये प्रश्न उठता है , इस कीड़े लगने का सबसे बड़ा कारण  है कि कुछ  भी खाने के बाद कुल्ला न करना ,  जब खाने के बाद कुल्ला नही करते तो  मुंह में उपस्थित  बैक्टिरिया  एक चिपचिपा पदार्थ (प्लाक) बनाते हैं , मुंह की लार के संपर्क में आने से यही चिपचिपा पदार्थ (प्लाक)  दांतों  को   नुकसान   पहुंचाता है ,दांतों को इस प्रकार सही से देखभाल नही करने पर धीरे धीरे सुराख़ बन जाता है  इससे  कैविटी बन जाती ह…

Arun jaitly: अरुण जेटली personality of india

Image
Arun jaitly : अरुण जेटली


               राष्ट्रीय राजनीति के एक पुरोधा , प्रखर  वक्ता,सफल अधिवक्ता, कुशल संगठनकर्ता , पूर्व वित्तमंत्री  अरुण जेटली जी का निधन 24 अगस्त 2019 को एम्स नई दिल्ली में हृदय गति रुक जाने से हो गया  वो 66 साल के थे और लबे अर्से से बीमार चल रहे थे  , अरुण  जेटली तबियत 9 अगस्त  सुबह  नाश्ते  के  बाद  अचानक खराब हो गई  उन्हें  साँस  लेने  में  तकलीफ़  बढ़ गई  , इसके बाद  उन्हें  एम्स  नई  दिल्ली में  कार्डियक न्यूरो सेंटर  के आई सी यू में भर्ती करवाया गया  और उन्हें  वेंटीलेटर  में  रखा गया , डॉक्टरों  ने  उन्हें 14 अगस्त  को  ट्रैकियोस्टोमी  करके वेंटीलेटर से बहार निकाला गया , तब उनके श्वसन में ज्यादा दिक्कत  आ   गई उनके  फेफड़ों  में  पानी  भर जाने के  कारण  संक्रमण हो गया , हालात लगातार बिगड़ती  गई  और 24 अगस्त  दोपहर  को उन्होंने शरीर त्याग दिया । ज्ञात हो कि अरुण जेटली जी ने अपने बढ़ते हुए वजन को कम करने के लिए दो सितम्बर  2014  बैरियाटिक   सर्जरी  मैक्स अस्पताल  नई  दिल्ली में करवाई थी ,इसके बाद वो अचानक  स्लिम  ट्रिम दिखने लगे थे , और चर्चा का विषय  …

अमेरिकी क्रांति । Amerika ki kranti

Image
---- America की क्रांति----
         अमेरिका की क्रांति अन्य क्रांतियों से भिन्न थी क्योंकि इस क्रांति में अमीरी ग़रीबी का संघर्ष नही था बल्कि यहां पर उपनिवेशवादी शोषण के ख़िलाफ़ संघर्ष  और उससे मुक्ति प्राप्त करना था , ये संघर्ष अपने ही पितृ देश से मुक्ति का संघर्ष था ,इस स्वतंत्रता संघर्ष ने अन्य देश में उपनिवेशों के चंगुल में फंसे देशों को दासता की बेड़ियां उतारने के लिए एक आंतरिक ऊर्जा पैदा कर दी ।
               अमेरिका वास्तव में 13 बस्तियां थी जो समुद्र के किनारे पूर्वी छोर पर बसीं थीं ,  इन 13 state के नाम उत्तर से दक्षिण इस प्रकार थीं न्यू हैम्पशायर ,मैसाचुसेट्स ,रोड आई लैंड कनेक्टिकट, न्यूयार्क ,पेंसिल्वेनिया, न्यू जर्सी  , डेलावेयर, मैरीलैंड  ,नार्थ कैरोलिना ,साउथ कैरोलिना ,जॉर्जिया    बस्तियाँ    थी  , आज के लुसियाना प्रान्त में स्पैन  देश का अधिकार था  , ये सभी  स्पेन ,  फ़्रांस , इंग्लैंड के अधीन बस्तियां 1600 से आबाद होना शुरू हुईं थी , बस्तियों में वो लोग थे जो इंग्लैंड में कृषि के  बड़े बड़े फॉर्म बनने से भूमि हीन कृषक हो गए थे , यहां पर वो रूढ़िवादी लोग भी थे जो प्रोटेस्टेंट…